श्रीनिवासन नहीं लड़ सकते बीसीसीआई के अध्यक्ष पद का चुनाव: सुप्रीम कोर्ट

खेल समाचार

नई दिल्ली| इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल 6) में सट्टेबाजी और स्पॉट फिक्‍सिंग मामले में सुप्रीम कोर्ट ने बड़ा फैसला सुनाते हुए श्रीनिवासन के दामाद गुरुनाथ मयप्पन और राज कुंद्रा को दोषी करार दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि मयप्पन और कुंद्रा दोनों सट्टेबाजी में शामिल थे। वहीं सुप्रीम कोर्ट ने मयप्पन को बचाने के आरोपों से श्रीनिवासन को बरी कर दिया। इसके अलावा कोर्ट ने निर्वासित अध्यक्ष एन श्रीनिवासन के बोर्ड के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ने पर रोक लगा दी है| कोर्ट ने बीसीसीआई को 6 हफ्ते के अंदर चुनाव कराने को कहा है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार, न्यायमूर्ति टी एस ठाकुर की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय खंडपीठ ने अपने 130 पृष्ठों के फैसले में कहा कि श्रीनिवासन पर अपने दामाद की गलतियों पर पर्दा डालने के आरोप सिद्ध नहीं हुए हैं। श्रीनिवासन को इस मामले में क्लीनचिट दी गयी है। शीर्ष अदालत ने बीसीसीआई को निजी निकाय बताने संबंधी दलीलों को भी दरकिनार करते हुए कहा कि बोर्ड का कामकाज सार्वजनिक कामकाज के दायरे में आता है, जिसकी न्यायिक समीक्षा की जा सकती है। न्यायालय ने बीसीसीआई के एकाधिकार पर अंकुश रखने के लिए कोई कानून नहीं बनाने के लिए सरकार को भी आड़े हाथों लिया। न्यायालय ने इन सभी पहलुओं पर विचार के लिए एक समिति गठित करने का भी बीसीसीआई को निर्देश दिया।

विशेष खंडपीठ ने दोषी मयप्पन और राज कुंद्रा के खिलाफ कार्रवाई के लिए सुप्रीम कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश आर.एम लोढ़ा के नेतृत्व में तीन सदस्यीय समिति गठित की। हितों के टकराव के मसले पर न्यायालय ने कहा कि श्रीनिवासन भले ही इस मामले में दोषी नहीं हों, लेकिन उन्हें आईपीएल की फ्रेंचाइजी टीम चेन्नई सुपरकिंग्स या बीसीसीआई में से किसी एक को ही चुनना होगा। उल्लेखनीय है कि श्रीनिवासन, उनके दामाद गुरुनाथ मयप्पन, राजस्थान रॉयल्स के मालिक राज कुंद्रा, क्रिकेट प्रशासक सुंदर रमन की न्यायमूर्ति मुदगल समिति ने जांच की थी। समिति को निश्चित व्यक्तियों द्वारा गलत काम का पता चला था और उसने इन्हें आईपीएल छह प्रकरण का दोषी ठहराया था।

श्रीनिवासन से जुड़े हितों के टकराव का मामला भी समीक्षा के दायरे में आया था क्योंकि वह सिर्फ बीसीसीआई के अध्यक्ष ही नहीं थे बल्कि इंडिया सीमेंट्स के प्रबंध निदेशक भी थे, जो कंपनी आईपीएल टीम चेन्नई सुपरकिंग्स की मालिक है। मुदगल समिति के मुताबिक, इस टीम में श्रीनिवासन का दामाद अधिकारी था और सट्टेबाजी में शामिल रहा।

Related posts

सुप्रीम कोर्ट ने बीसीसीआई अध्यक्ष अनुराग ठाकुर व सचिव अजय शिर्के को हटाया

भारतीय क्रिकेट टीम में शामिल होने पर चाहर परिवार में खुशी की लहर

वर्ल्ड कप के मैच में इंग्लैंड ने भारतीय टीम को 31 रन से हराया

12 comments

Leave a Comment