मुख्यमंत्री ने नागरिक उड्डयन विभाग की विभिन्न परियोजनाओं की प्रगति की समीक्षा की

उत्तर प्रदेश

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ ने राज्य में हवाई कनेक्टिविटी को बढ़ावा देने और इसके माध्यम से विभिन्न स्थानों को आपस में जोड़े जाने के निर्देश दिये हैं। उन्होंने कहा है कि मुख्य पर्यटक स्थलों को हेलीकाॅप्टर सेवा से जोड़ा जाए। साथ ही, बौद्ध परिपथ के अन्तर्गत आने वाले जनपदों तथा तीर्थ स्थलों को आपस में हवाई सेवा से जोड़ा जाए।

मुख्यमंत्री ने यह निर्देश आज यहां शास्त्री भवन में नागरिक उड्डयन विभाग के प्रस्तुतिकरण के अवसर पर दिये। उन्होंने कहा कि प्रदेश में राजकीय हवाई पट्टियों की सुविधाओं और रख-रखाव पर विशेष ध्यान दिया जाए। नये एयरपोर्ट की सम्भावनाओं को तलाशा जाए। साथ ही, प्रमुख पर्यटन स्थलों-लखनऊ, मथुरा, वृन्दावन, अयोध्या, प्रयाग, विन्ध्याचल, नैमिषारण्य, चित्रकूट, कुशीनगर और वाराणसी आदि को हेलीकाॅप्टर के जरिये जोड़े जाने की कार्यवाही जल्द से जल्द की जाए। इसके लिए हेलीकाॅप्टर सेवा प्रदाता से बातचीत की जाए। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के जेवर में नये एयरपोर्ट को विकसित किये जाने की योजना है। इस पर भी त्वरित कार्यवाही की जाए। रीजनल कनेक्टिविटी स्कीम के तहत अधिकाधिक हवाई पट्टियों को आपस में जोड़ा जाए। साथ ही, एयरपोट्र्स के विकास व निर्माण सम्बन्धी कार्यवाही भी समयबद्ध तरीके से की जाए।

मुख्यमंत्री ने नागरिक उड्डयन विभाग की विभिन्न परियोजनाओं की प्रगति की भी समीक्षा की, जिसमें कुशीनगर में अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के एयरपोर्ट का निर्माण, चित्रकूट स्थित हवाई पट्टी का विस्तारीकरण, कानपुर देहात में नई हवाई पट्टी का निर्माण, इलाहाबाद, आगरा व कानपुर नगर व बरेली में सिविल इंक्लेव के लिए भूमि क्रय प्रमुख हैं। उन्होंने इन परियोजनाओं को तेजी के साथ समयबद्ध ढंग से पूरा किये जाने के निर्देश दिये।

श्री योगी ने कहा कि हवाई सेवा की सुविधा से विकास को गति मिलती है और पर्यटकों की संख्या में बढ़ोत्तरी होती है। इससे अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ करने में बल मिलता है। एविएशन सम्बन्धी बुनियादी ढांचे के विकास और एविएशन के सम्बन्ध में शिक्षा प्रदान करने की योजनाएं भी बनायी जाएं। नागरिक उड्डयन निदेशालय को पूर्णतः कम्प्यूटराइज्ड किया जाए, जिससे विमानों के परिचालन, प्रबन्धन, नियंत्रण, अनुरक्षण एवं सुरक्षा का कार्य गुणवत्तापरक ढंग से सम्पादित किया जा सके।

इस अवसर पर उप मुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य, डाॅ0 दिनेश शर्मा सहित मंत्रिमण्डल के अन्य सदस्य एवं वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Related posts

ई-आॅफिस प्रणाली को राज्य, मण्डल तथा जनपद स्तर के कार्यालयों में शीघ्रता के साथ लागू किया जाए: मुख्यमंत्री

किसानों के आर्थिक विकास में सहकारिता एक सशक्त माध्यम: मुकुट बिहारी वर्मा

बीएचयू हिंसा मामले में अधिकारियों पर गिरी गाज, 1200 छात्र-छात्राओं पर FIR

Leave a Comment