33 C
Lucknow

देश का पहला क्राइम शो करने वाले सुहैब इलियासी को उम्रकैद की सजा, चाकू घोंपकर की थी पत्नी की हत्या

देश-विदेश

नई दिल्ली: पूर्व टीवी धारावाहिक निर्माता सुहैब इलियासी को 17 साल पहले चाकू घोंपकर अपनी पत्नी अंजू की हत्या करने के मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई गई है. सुहैब को आईपीसी के तहत हत्या का दोषी ठहराया गया था. अंजू को 11 जनवरी, 2000 को घायलावस्था में अस्पताल ले जाया गया था. उनके शरीर पर चाकू के निशान थे. ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’ की प्रस्तुति के जरिए सुर्खियां बटोरने वाले सुहैब को 28 मार्च, 2000 को गिरफ्तार किया गया था. सास और ससुराल पक्ष के अन्य रिश्तेदारों ने उस पर दहेज के लिए पत्नी को प्रताड़ित करने और उसकी हत्या करने का आरोप लगाया था, जिसके बाद उस पर मुकदमा चलाया गया था. सुहैब क्राइम शो ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’  से सुर्खियों में आए थे और टीवी का एक पॉपुलर चेहरा बन गए थे.

पुलिस में अंजू की बहन और मां ने बयान दिए थे कि उसने उन्हें कई बार फोन कर बताया था कि सुहैब कभी भी उसकी हत्या कर सकता है.

लवर ब्वॉय से पत्नी के कातिल बनने का सफर
सुहैब इलियासी की अंजू से मुलाकात साल 1989 में जामिया मिल्लिया इस्लामिया में हुई थी. दोनों ही यहां मास कम्यूनिकेशन के स्टूडेंट थे. अंजू के पिता जामिया में मेटलर्जी विभाग के अध्यक्ष थे. दोस्ती के बाद दोनों में प्यार बढ़ा और उन्होंने एक होने का फैसला किया. लेकिन धर्म अलग होने के कारण दोनों ही परिवारों को ये रिश्ता नामंजूर था.

ऐसे में इस प्रेमी जोड़े ने अपने परिवार के खिलाफ जाकर शादी करने का फैसला किया. इसके लिए दोनों साल 1993 में लंदन पहुंचे और 1994 तक वहीं रहे.

शादी के 1 साल बाद ही शुरू हो गए थे मतभेद
एक साल पूरे होने पर जब दोनों भारत लौटे तो अंजू ने सुहैब के साथ रहने से इनकार कर दिया और वो वापिस लंदन चली गई. पत्नी को मनाने के लिए सुहैब भी लंदन पहुंचे और आखिरकार 1995 में दोनों फिर इंडिया आए. यहां अंजू ने एक बेटी को जन्म दिया.

1996 में सुहैब ने एक क्राइम बेस्ड रिएलिटी शो पर काम करना शुरू किया. इस शो को नाम दिया गया ‘इंडियाज मोस्ट वांटेड’. जल्द ही ये देश का सबसे पॉपुलर टीवी प्रोग्राम बन गया.

इस दौरान पति-पत्नी के बीच फिर से मतभेद बढ़ गए. अंजू घर छोड़ अपनी बहन के साथ कनाडा चली गई.

दिल्ली में खरीदा डेढ़ करोड़ का फ्लैट

एक बार फिर सुहैब अपनी पत्नी को मनाने के लिए पहुंचा. अंजू 1999 में वापस दिल्ली आ गई. अंजू ने पूर्वी दिल्ली के मयूर विहार में करीब डेढ़ करोड़ का फ्लैट खरीदा. 10 महीने तक इसका इंटीरियर किया गया. दिसंबर 1999 में दोनों इस फ्लैट में शिफ्ट हो गए. कहा जाता है कि दोनों ने शिफ्ट होने के बाद यही पर अंजू के बर्थडे के लिए शानदार पार्टी करने की प्लानिंग की थी.

बर्थडे से 6 दिन पहले पत्नी की हत्या
अंजू के जन्मदिन के 6 दिन पहले वो घायल हालत में मिली. सुहैब ने इसकी जानकारी पत्नी की एक दोस्त को भी दी. अंजू को अस्पताल ले जाया गया, जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई.

पुलिस को दिए अपने बयान में सुहैब ने कहा था कि घटना के समय उसकी और अंजू की बहस हुई थी. इस दौरान अंजू ने किचन में रखा चाकू उठाया और उसे खुद को घायल कर लिया.

दहेज के लिए प्रताड़ित करता था सुहैब
अंजू को घरवालों ने इसके खिलाफ पुलिस में शिकायत की. उन्होंने सुहैब पर दहेज के लिए प्रताड़ित करने के आरोप लगाया, जिसे लेकर दंपति के बीच झगड़े हुआ करते थे. जांच में इन आरोपों को सही पाया गया.

28 मार्च 2000 को पुलिस ने सुहैब को गिरफ्तार कर लिया. हालांकि, 2014 में दिल्ली हाईकोर्ट ने अंजू की मां की पिटीशन पर ट्रायल कोर्ट को ऑर्डर दिया कि इस केस को हत्या के मामले के तौर पर भी देखा जाए.

उम्रकैद की सजा
दिल्ली की एक अदालत ने पूर्व टीवी धारावाहिक निर्माता सुहैब इलियासी को 17 साल पहले चाकू घोंपकर पत्नी की हत्या के मामले में 16 दिसंबर 2017 को दोषी ठहराया. जिसके बाद 20 दिसंबर को उसे उम्रकैद की सजा सुनाई गई.

Zee News

Related posts

श्रद्धालुओं को ही प्रवेश की मांग पर केरल हाईकोर्ट ने कहा, सबरीमाला सिर्फ हिन्दुओं का नहीं

प्रधानमंत्री श्री आदि शंकराचार्य की प्रतिमा का अनावरण करेंगे

120 स्‍टार्टअप्स में 569 करोड़ रुपये निवेश किए गए जिससे 6515 रोजगार सृजित हुए

Leave a Comment