Breaking News
Home » उत्तराखंड » बीआरओ के अतिथि गृह में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ केन्द्र पोषित योजनाओं की समीक्षा करते हुए: राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य

बीआरओ के अतिथि गृह में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ केन्द्र पोषित योजनाओं की समीक्षा करते हुए: राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य

चमोली: राज्यपाल उत्तराखण्ड श्रीमती बेबी रानी मौर्य ने विजयदशमी के मौके पर बद्रीनाथ धाम में दर्शन कर पूजा अर्चना करते हुए देश और राज्य की खुशहाली की कामना की। पूजा अर्चना के दौरान उनके पति श्री प्रदीप कुमार मौर्य भी साथ थे। उन्होंने कहा कि देवभूमि में भगवान नारायण के दर्शन से अद्भुत शक्ति की अनुभूति हुई है। राज्यपाल ने पूरे प्रदेश वासियों को विजयदशमी पर्व की भी शुभकामनाएं दी। बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति ने मंदिर परिसर में राज्यपाल को तुलसी माला, प्रसाद व अंगवस्त्र भेंट कर उनका स्वागत किया।

राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य निर्धारित कार्यक्रम के तहत विजयदशमी पर्व पर शुक्रवार को बद्रीनाथ धाम पहुॅची। मा0 राज्यपाल के बद्रीनाथ धाम पहुॅचने पर डीएम स्वाति एस भदौरिया व एसपी तृप्ति भट्ट ने हैलीपैड पर उनका स्वागत किया। ब्रदीनाथ धाम में दर्शन व पूजा अर्चना के बाद राज्यपाल ने बीआरओ के अतिथि गृह में जिला स्तरीय अधिकारियों के साथ केन्द्र पोषित योजनाओं की समीक्षा करते हुए आवश्यक दिशा निर्देश दिये। उन्होंने केन्द्रपोषित योजनाओं के क्रियान्वयन में तेजी लाते हुए शतप्रतिशत लक्ष्य हासिल करने के निर्देश अधिकारियों को दिये। इस दौरान राज्यपाल ने आयुष्मान भारत, उज्जवला, पीएम आवास, पीएमजीएसवाई, स्वास्थ्य, कानून व्यवस्था आदि योजनाओं के तहत किये गये कार्यो की जानकारी ली। राज्यपाल ने रोड शेफ्टी के लिए पर्याप्त इंतेजाम करते हुए लोगों को जागरूक करने पर जोर दिया। चिकित्सा व्यवस्थाओं की जानकारी लेते हुए राज्यपाल ने इमरजेंसी के समय आर्मी हाॅस्पिटल के डाक्टरों का भी सहयोग लेने की बात कही। राज्यपाल ने एसएचजी ग्रुप द्वारा तैयार की गये जूट के बैग को भी प्रामोट करने पर जोर देते हुए कहा कि इसके उपयोग से बद्रीनाथ धाम को पाॅलीथीन मुक्त किया जा सकता है।

इस दौरान जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने मा0 राज्यपाल को पीपीटी के माध्यम से विभिन्न विकास योजनाओं की प्रगति से अवगत कराया। कहा कि जिले में शिक्षकों की भारी कमी को देखते हुए स्कूलों में ई-लर्निंग प्रोग्राम शुरू किया गया है। वही स्कूलों में कैपेसिटी डेवलपमेंन्ट, सांइस एक्सिबिसन के साथ-साथ छात्रों को कैरियर मार्गदर्शिका वितरित की गई है। पर्यटन को बढावा देने के लिए होम-स्टे को प्रमोट किया जा रहा है। काश्तकारोंध्किसानों को स्थानीय उत्पादों का उचित मूल्य मिल सके इसके लिए जिला स्तर पर 26 व 27 अक्टूबर को हिमालयन काॅनक्लेव का आयोजन किया जा रहा है जिसमें वायर और सेलर मीट प्रस्तावित है।

राज्यपाल ने बद्रीनाथ में डीआरडीए द्वारा संचालित सरस केन्द्र में पंचबद्री प्रसादम् विक्रय स्टाॅल का उद्घाटन भी किया। इस दौरान राज्यपाल ने स्वयं सहायता समूह की महिलाओं द्वारा निर्मित स्थानीय उत्पाद व हस्तशिल्प कालीन, पंखी, शाॅल, स्वेटर, टोपी, रिंगाल की टोकरी आदि वस्तुओं का अवलोकन करते हुए जमकर सराहना की और अधिकारियों को महिला स्वयं सहायता समूहों को आत्म निर्भर बनाने को कहा। इसके बाद राज्यपाल ने सीमांत गांव माणा पहुॅचकर स्थानीय महिलाओं से भी मुलाकात की। इस दौरान स्थानीय महिलाओं ने राज्यपाल को शाॅल भेंट कर उनका स्वागत किया। इसके बाद राज्यपाल बद्रीनाथ से देहरादून के लिए रवाना हुए।

About admin