Breaking News
Home » उत्तर प्रदेश » सड़कों के निर्माण व मरम्मत में गुणवत्ता का रखा जाए विशेष ध्यान: केशव प्रसाद मौर्य

सड़कों के निर्माण व मरम्मत में गुणवत्ता का रखा जाए विशेष ध्यान: केशव प्रसाद मौर्य

लखनऊः उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री श्री केशव प्रसाद मौर्य ने सड़कों के निर्माण व मरम्मत कार्यों में मानकों व गुणवत्ता का विशेष ध्यान रखने के निर्देश सभी विभागीय अधिकारियों को दिये हैं। उपमुख्यमंत्री आज यहाॅ लोक निर्माण विभाग के मुख्यालय स्थित तथागत सभागार में आयोजित राज्य सड़क निधि प्रबन्धन समिति की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

उपमुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि आवंटित धनराशि का शत प्रतिशत सदुपयोग किया जाना सुनिश्चित किया जाय। श्री मौर्य ने कहा कि ओवर लोडिंग से सड़कें बहुत ज्यादा खराब होती हैं इसलिए ओवर लोडिंग रोकने के ठोस व प्रभावी उपाय किये जाय। प्रदेश में जिन मार्गों से विशेष रूप से मौरंग, गिट्टी, बालू आदि का परिवहन का कार्य होता है, उन मार्गों को चिन्हित कर वहाॅ पर ओवर लोडिंग रोकने का एक महीने का सघन चेकिंग अभियान चलाया जाय तथा खराब हुई सड़कों की मरम्मत भी करायी जाय। चेकिंग कार्य हेतु सम्बन्धित जिलाधिकारी समिति गठित कर प्रभावी कार्यवाही करेंगे। उन्होने कहा कि ओवर लोडिंग किसी भी दशा में नहीं होनी चाहिए। श्री मौर्य ने यह भी कहा कि प्रदेश में लगातार चेकिंग करते हुए सड़कों को गड्ढ़ामुक्त किया जाय। जनता की जरूरतों के आधार पर कार्यों की प्राथमिकता तय की जाय और उसी के अनुरूप कार्य योजना बनायी जाय। उन्होने कहा कि सड़क दुर्घटनाएं कम हो इसके लिये जरूरी है कि सड़कें भी अच्छी रहनी चाहिए। खतरनाक गड्ढ़ों के कारण भी कभी-कभी सड़क दुर्घटनाएं हो जाती हैं। उन्होने जोर देते हुए कहा कि सड़कों के निर्माण में नवीन तकनीकी का भरपूर उपयोग किया जाय।

उपमुख्यमंत्री ने निर्देश दिये कि लोक निर्माण विभाग द्वारा जो रोड डायरेक्ट्री बनायी गयी है उसमें सभी विभागों की सड़कों का समावेश करते हुए डायरेक्ट्री कम्प्लीट की जाय तथा जनपदवार सम्बन्धित अधिकारियों व जनप्रतिनिधियों को भी उपलब्ध कराया जाय। इस डायरेक्ट्री में सड़कों के निर्माण के सम्बन्ध में लिये गये बड़े निर्णयों को भी दर्शाया जाय। उन्होन यह भी कहा कि स्पीड बे्रकर निर्धारित मानक के अनुसार ही बनाए जांए, इतने ऊॅचें न हो जिससे कि दुर्घटना होने का अंदेशा हो। श्री मौर्य ने यह भी निर्देश दिये कि स्पीड बे्रकर के साथ साइनेज बोर्ड भी लगाए जांय।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि गांव/नगर क्षेत्र में आबादी भाग में जहां पानी की निकासी न होने के कारण लेपित मार्ग बार-बार क्षतिग्रस्त होते हैं, वहां जल निकासी की व्यवस्था करते हुए सी0सी0 रोड व नालियों का निर्माण किया जाय। उन्होने यह भी निर्देश दिये कि बनायी जाने वाली सड़कों पर विवरण दर्शाते हुए साइन बोर्ड जरूर लगाये जांय। श्री मौर्य ने कहा कि सड़कों के सम्बन्ध में जारी किये गये वाट्सअप नम्बर पर प्राप्त सभी शिकायतों का शत-प्रतिशत निस्तारण सुनिश्चित किया जाय तथा शिकायतकर्ता को भी निस्तारण से अवगत कराया जाय। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क निधि प्रबन्धन समिति की पिछली बैठक में हुये निर्णयों के बारे में की गयी कार्यवाही की भी उपमुख्यमंत्री जी ने समीक्षा की। बैठक में राज्य सड़क निधि प्रबन्धन समिति द्वारा वर्ष 2018-19 की कार्य योजना का कार्योत्तर अनुमोदन भी प्रदान किया गया।

बैठक में  राज्यमंत्री लोक निर्माण विभाग, श्री भूपेन्द्र सिंह चैधरी ने भी अपने महत्वपूर्ण विचार व्यक्त किये। अपर मुख्य सचिव सूचना, पर्यटन एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी यू0पी0डा0 श्री अवनीश कुमार अवस्थी ने नेशनल हाइवे के कतिपय कार्यों के सम्बन्ध में मा0 उपमुख्यमंत्री जी का ध्यानाकृष्ट कराया। प्रमुख सचिव लोक निर्माण विभाग के श्री नितिन रमेश गोकर्ण ने कहा कि मा0 उपमुख्यमंत्री जी द्वारा दिये गये निर्देशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित किया जायेगा। बैठक में सांसद जालौन श्री भानुप्रताप सिंह वर्मा, सांसद सीतापुर श्री राजेश वर्मा, विधायक-चायल (कौशाम्बी) श्री संजय गुप्ता, अध्यक्ष जिला पंचायत महाराजगंज श्री प्रभुदयाल चैहान, अध्यक्ष जिला पंचायत फतेहपुर, श्रीमती निवेदिता सिंह के अतिरिक्त लोक निर्माण विभाग के प्रमुख अभियन्ता व विभागाध्यक्ष श्री वी0के0 सिंह, मुख्य अभियन्ता (मु0-1) श्री पी0के0 कटियार एवं लोक निर्माण विभाग के अन्य अभियन्ता मौजूद थे।

About admin