Breaking News
Home » उत्तर प्रदेश » दुग्ध उत्पादकों के प्रोत्साहन हेतु गोकुल पुरस्कार के साथ ही दिया जायेगा नन्द बाबा पुरस्कार

दुग्ध उत्पादकों के प्रोत्साहन हेतु गोकुल पुरस्कार के साथ ही दिया जायेगा नन्द बाबा पुरस्कार

लखनऊ: उत्तर प्रदेश सरकार ने भारतीय गोवंश में वृद्धि हेतु तथा दुग्ध उत्पादकों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से नन्दबाबा पुरस्कार देने का निर्णय लिया है।

यह जानकारी आज यहां एनेक्सी के मीडिया सेन्टर में प्रेसवार्ता के दौरान दुग्ध विकास मंत्री, श्री लक्ष्मी नारायण चैधरी ने दी। उन्होंने बताया कि दुग्ध उत्पादकों के प्रोत्साहन हेतु गोकुल पुरस्कार के साथ ही नन्द बाबा पुरस्कार भी दिया जायेगा। उन्होंने बताया कि दुग्ध उत्पादकों को लाभान्वित करने के उद्देश्य से वर्तमान में प्रदेश में 18 दुग्ध संघ को बढ़ाकर मथुरा दुग्ध संघ एवं महिला दुग्ध संघ, शाहजहांपुर गठित कर कुल 20 दुग्ध संघ गठित किये गये हैं। वर्तमान में दुग्ध उत्पादकों के शिकायतों के निस्तारण हेतु दुग्ध आयुक्त स्तर पर काल सेन्टर की स्थापना की गयी है तथा प्रत्येक दुग्ध संघ में कन्ट्रोल रूम स्थापित किया गया है, इससे किसान का डाटा सीधे प्राप्त कर दुग्ध उत्पादकों को उनके दुग्ध मूल्य का भुगतान किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि कन्नौज काउ मिल्क प्लान्ट हेतु गाय के दूध की उपलब्धता हेतु दुग्ध उत्पादकों को 5 रुपये प्रति लीटर की दर से प्रोत्साहन राशि दिये जाने की व्यवस्था की गयी है।

श्री चैधरी ने बताया कि प्रदेश में महिलाओं के सशक्तिकरण हेतु डेरी विकास के क्षेत्र में उनकी सहभागिता एवं उनके सामाजिक एवं आर्थिक उत्थान हेतु जनपद शाहजहांपुर में दुग्ध संघ का गठन किया गया है, इसमें दुग्ध संघ के सभी सदस्य, सचिव, समितियों की सदस्य केवल महिलाएं ही होगी।

दुग्ध विकास मंत्री ने बताया कि वर्तमान में समितियों में दुग्ध क्रय की व्यवस्था पारदर्शी करने के लिए डी0पी0एम0सी0यू0 की व्यवस्था की गयी है। अब तक लगभग 1500 डी0पी0एम0सी0यू0 लगाये जा चुके हैं, शेष समितियों में डी0पी00एम0सी0यू0 लगाये जाने की व्यवस्था की जा रही है।

About admin