Breaking News
Home » उत्तर प्रदेश » मुख्यमंत्री ने लोगों से ‘दीपोत्सव’ के आयोजन पर भगवान श्रीराम के नाम पर एक दीप जलाने का आह्वान किया

मुख्यमंत्री ने लोगों से ‘दीपोत्सव’ के आयोजन पर भगवान श्रीराम के नाम पर एक दीप जलाने का आह्वान किया

अयोध्या: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी ने फैजाबाद जनपद का नाम अयोध्या किए जाने की घोषणा की है। उन्होंने अयोध्या में निर्मित होने वाले मेडिकल काॅलेज को अयोध्या की परम्परा के अनुरूप राजा दशरथ जी के नाम पर तथा यहां के हवाई अड्डे को मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम जी के नाम पर किए जाने की भी घोषणा की।  उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में सरकार रामराज्य की अवधारणा को साकार कर रही है। बिना किसी भेदभाव के जाति, सम्प्रदाय, मत, मजहब, भाषा से परे रहकर सभी वर्गों के उत्थान और विकास के लिए योजनाएं चलायी जा रही है। अयोध्या और देश के लोगांे की भावनाओं से जुड़कर ही सरकार कार्य करना चाहती है। उन्होंने लोगों से आह्वान किया कि वे ‘दीपोत्सव’ के आयोजन पर भगवान श्रीराम के नाम पर एक दीप अवश्य जलाएं।

मुख्यमंत्री जी आज अयोध्या में ‘दीपोत्सव-2018’ के दिव्य और भव्य समारोह को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने अयोध्या के विकास और सौन्दर्यीकरण के लिए 176 करोड़ रुपए की परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया। इनमें पर्यटन विभाग की (‘क्वीन हो’ स्मारक, राम कथा पार्क, राम की पैड़ी), सिंचाई विभाग की (राम की पैड़ी का उच्चीकरण), ऊर्जा विभाग की (आई0पी0डी0एस0 योजना), नगर विकास विभाग की (अमृत योजना) तथा राजस्व तथा ग्राम्य विकास, पंचायती राज विभाग की (15 पशु शालाओं व चारागारों के निर्माण एवं विकास) की योजनाएं शामिल हैं।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि पिछले वर्ष ‘दीपोत्सव’ कार्यक्रम के एक वर्ष बाद फिर से एक नए संकल्प और उत्साह के साथ अयोध्या के विकास के लिए हम सभी आए हैं। उन्हांेने कहा कि अयोध्या के ‘दीपोत्सव’ को भारत के राष्ट्रपति जी एवं प्रधानमंत्री जी का आशीर्वाद प्राप्त हुआ। परिणामस्वरूप दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला श्रीमती किमजोंग-सुक के साथ एक विशाल प्रतिनिधिमण्डल यहां के ‘दीपोत्सव’ कार्यक्रम में शामिल हुआ। इससे ‘दीपोत्सव’ कार्यक्रम को अन्तर्राष्ट्रीय मान्यता मिली है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि हमारी संस्कृति ‘अतिथि देवो भव’ की संस्कृति रही है। दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला श्रीमती किमजोंग-सुक के यहां आने और अयोध्या में दीपोत्सव के आयोजन से हम सभी अपने अतीत से जुड़ रहे हैं। अयोध्या की पहचान अयोध्या के ही रूप में होना इस कार्यक्रम का उद्देश्य है। उन्होंने कहा कि दीपावली का आयोजन अयोध्या से ही जाना जाता है।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि प्रधानमंत्री जी के कुशल नेतृत्व मे रामायण सर्किट को विकसित करने का कार्य किया जा रहा है। जनकपुर से अयोध्या तक की बस सेवा की शुरुआत की गई है। उन्होंने कहा कि राम-जानकी विवाह के अवसर पर इस बार वे स्वयं जनकपुर जाएंगे। रामराज्य की स्थापना की नींव रखे जाने की दिशा में कार्यवाही प्रारम्भ की जा चुकी है। केन्द्र सरकार के पिछले साढ़े चार वर्षों के कार्यकाल में 36 करोड़ गरीबों के बैंक खाते खुले, जिससे 86 हजार करोड़ रुपए उनके खातों में आए। 08 करोड़ महिलाओं को निःशुल्क रसोई गैस कनेक्शन उपलब्ध कराए गए। 04 करोड़ परिवारों को निःशुल्क विद्युत कनेक्शन मिले। करोड़ांे की संख्या में आवास उपलब्ध कराए गए। 12 करोड़ शौचालयों का निर्माण हुआ। आयुष्मान भारत योजना के तहत 50 करोड़ लोग 05 लाख रुपए की सीमा तक निःशुल्क बीमा कवर से लाभान्वित हो रहे हैं।

मुख्यमंत्री जी ने कहा कि अयोध्या के विकास का कार्य तेजी से किया जा रहा है। सड़कों को बेहतर बनाया जा रहा है। घाटों का सौन्दर्यीकरण किया जा रहा है। खुले बिजली के तारों से अयोध्या को मुक्ति मिली है। सरयू जी में गिरने वाले गन्दे नालों को टैप करने का कार्य नमामि गंगे परियोजना के तहत किया जा रहा है। इसके लिए केन्द्र सरकार द्वारा धन स्वीकृत कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि राम की पैड़ी को हरिद्वार स्थित हरि की पैड़ी का स्वरूप दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि अयोध्या विकास की नई ऊँचाइयों को छुएगा और किसी श्रद्धालु को कोई दिक्कत नहीं होगी। अयोध्या में दीपावली ‘दीपोत्सव’ की भांति हमेशा जगमगाएगी। अयोध्या को 07 पुरियों के रूप में श्रद्धा और सम्मान की दृष्टि से विकसित किया जाएगा।

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल श्री राम नाईक जी ने इस अवसर पर दीपावली की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि ‘दीपोत्सव’ के इस वातावरण को देखकर त्रेता युग में भगवान श्रीराम के अयोध्या आगमन के दृश्य को महसूस किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अयोध्या में 03 लाख से अधिक दीपों का प्रज्ज्वलन सारी दुनिया में एक रिकाॅर्ड है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन से अयोध्या को पूरी दुनिया में मान्यता मिलेगी। उन्होंने कहा कि भारत सदैव ‘वसुधैव कुटुम्बकम्’ के आधार पर कार्य करता रहा है। उसी विचार को और आगे ले जाने का संकल्प हमंे लेना होगा। उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में देश व प्रदेश के चतुर्दिक विकास होने की बात कही।

बिहार के राज्यपाल श्री लालजी टण्डन ने कहा कि अयोध्या की धरती राम की धरती रही है। श्रीराम के आदर्शों पर चलने और इस दीपोत्सव कार्यक्रम में उनके समय के दृश्य को एक बार फिर से जीवन्त करने के लिए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बधाई के पात्र हैं।

दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला श्रीमती किमजोंग-सुक ने कहा कि उन्हें दीपोत्सव के अवसर पर अयोध्या और भारत आकर प्रसन्नता का अनुभव हो रहा है। इसके लिए उन्होंने प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी एवं मुख्यमंत्री जी के प्रति आभार व्यक्त करते हुए सभी को इस प्रकाश पर्व दीपावली की बधाई व शुभकामनाएं दीं। उन्होंने 2000 वर्ष पूर्व अयोध्या की राजकुमारी के कोरिया जाने और वहां के राजकुमार से विवाह के प्रसंग का स्मरण करते हुए कहा कि भारत और दक्षिण कोरिया के सम्बन्ध प्रेम और विश्वास के रहे हैं। भारत और दक्षिण कोरिया मिलकर विश्व में शान्ति और समृद्धि के सुखद भविष्य का निर्माण करने की दिशा में आगे बढ़ेंगे। उन्होंने कहा कि दीपावली के अवसर पर दीपों और उसके प्रकाश में सम्पूर्ण विश्व के अंधकार को दूर करने की इच्छा का समावेश है। उन्होंने महात्मा गांधी की अहिंसा की नीति से प्रभावित होकर अन्याय को पराजित करने की कोरिया की ‘मोमबत्ती क्रान्ति’ का स्मरण किया।

केन्द्रीय विदेश राज्य मंत्री जनरल (से0नि0) श्री वी0के0 सिंह ने कहा कि अयोध्या का ‘दीपोत्सव’ कार्यक्रम एक खास आयोजन है। यह हमें अपने अतीत की याद दिलाता है। इस कार्यक्रम से इतिहास का पुनर्जागरण हुआ है। उन्होंने विश्वास व्यक्त किया कि इस कार्यक्रम से अयोध्या को भव्यता प्राप्त होगी।

प्रदेश की पर्यटन मंत्री श्रीमती रीता बहुगुणा जोशी ने सभी अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि ‘दीपोत्सव’ कार्यक्रम का वृहद् स्तर पर आयोजन किया गया है। इस आयोजन में दक्षिण कोरिया का शामिल होना हमारे सांस्कृतिक सम्बन्धों की प्रगाढ़ता का प्रतीक है। उन्हांेने कहा कि अयोध्या भविष्य में विश्व की एक सुन्दर नगरी बनेगी।

इसके पूर्व, पुष्पक विमान से प्रभु श्रीराम, माता सीता और लक्ष्मण जी के स्वरूपों का आगमन हुआ, जिनका मुख्यमंत्री जी और विशिष्ट अतिथियों ने स्वागत व अभिनन्दन किया। उन स्वरूपों के मंच के आने पर उनका राज्याभिषेक कर आरती, पूजन व अभिनन्दन किया गया। मुख्यमंत्री जी ने पूजनीय संतों का स्वागत, वंदन और अभिनन्दन भी किया। इस अवसर पर हेलीकाॅप्टर द्वारा पुष्प वर्षा का नयनाभिराम दृश्य प्रस्तुत किया गया, जिससे उपस्थित जनसमुदाय आह्लादित हुआ।

कार्यक्रम के दौरान उप मुख्यमंत्रीगण श्री केशव प्रसाद मौर्य, डाॅ0 दिनेश शर्मा, नगर विकास मंत्री श्री सुरेश कुमार खन्ना, औद्योगिक विकास मंत्री श्री सतीश महाना, संस्कृति मंत्री श्री लक्ष्मी नारायण चैधरी सहित अन्य मंत्रिगण एवं जनप्रतिनिधिगण, दक्षिण कोरिया के पर्यटन व संस्कृति मंत्री श्री डू-जाँग-ह्वान एवं राजदूत तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

इसके पश्चात्, मुख्यमंत्री जी एवं दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला श्रीमती किमजोंग-सुक ने नया घाट पर सरयू जी का पूजन एवं आरती की और सरयू जी में दीपदान किया।

About admin