Breaking News
Home » उत्तराखंड » युवक मंगल दल और महिला मंगल दलों को स्वरोजगार कार्यक्रम से जोड़ने हेतु कार्य योजना प्रस्तुत की जाय: अरविन्द पाण्डेय

युवक मंगल दल और महिला मंगल दलों को स्वरोजगार कार्यक्रम से जोड़ने हेतु कार्य योजना प्रस्तुत की जाय: अरविन्द पाण्डेय

देहरादून: प्रदेश के युवा कल्याण एवं पंचायती राज मंत्री अरविन्द पाण्डेय ने विधान सभा स्थित कार्यालय कक्ष में बैठक लेते हुए कहा कि युवा कल्याण विभाग के अन्तर्गत कार्यरत्त युवक मंगल दल और महिला मंगल दलों को स्वरोजगार कार्यक्रम से जोड़ने हेतु कार्य योजना प्रस्तुत की जाय। उन्होंने कहा युवक मंगल दल एवं महिला मंगल दल को स्वरोजगार से जोड़कर आर्थिक रूप आत्मनिर्भर और सबल बनाया जाय।

महिला मंगल दल एवं युवा मंगल दल स्वरोजगार से जोड़कर आर्थिक रूप आत्मनिर्भर और सबल बनाने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम के उपरान्त उनके द्वारा तैयार उत्पादों के मार्केटिंग की सुविधा उपलब्ध कराई जाय। इस सम्बन्ध में मंत्री ने जागरूकता प्रोग्राम चलाने पर भी बल दिया।

पशुपालन विभाग, उद्यान विभाग, दुग्ध विभाग, मत्स्य विभाग, सूक्ष्म एवं लघु उद्याग विभाग द्वारा चलाई जा रहे विभिन्न योजनाओं से स्वरोजगार से जोड़कर आर्थिक रूप आत्मनिर्भर और सबल बनाने की योजना तैयार की जायेगी। इस सम्बन्ध में युवा कल्याण विभाग एक नोडल विभाग के रूप में कार्य करेगा। इस सम्बन्ध में मंत्री ने ब्लाॅक स्तर तक बैठक कर ऐसे महिला मंगल दल एवं युवा मंगल दल के चिन्हीत करने पर बल दिया जो कि विशेष रोजगार परक कार्यक्रम में अभिरूचि रखते हैं और प्रशिक्षण प्राप्त हैं। इस सम्बन्ध में मंत्री ने स्कूल ड्रेस के आपूर्ति के बड़ी फर्म से समझौता कर महिला मंगल दल एवं युवा मंगल दल के प्रशिक्षित युवक-युवतियों द्वारा तैयार ड्रेस के उपयोग के सम्बन्ध में सम्भावित कार्य योजना बनाने को कहा। उन्होंने कहा उत्तराखण्ड जैविक उत्पादन पैदा करने वाला प्रमुख प्रदेश है। इस सम्बन्ध में इसकी ब्राॅडिंग करने पर बल दिया। इसके प्रभाव से प्रशिक्षित महिला मंगल दल एवं युवा मंगल दल द्वारा तैयार उत्पाद को बाजार एवं अच्छा दाम मिल सकेगा।

बैठक में उद्योग विभाग से ऐसे महिला मंगल दल एवं युवा मंगल दल की सूची उपलब्ध कराने को कहा गया जो उद्योग विभाग द्वारा चलाई जाने वाली विभिन्न योजनाओं में प्रशिक्षित हैं।

इस अवसर पर सचिव डाॅ0भूपेन्द्र कौर औलख, निदेशक युवा कल्याण विम्मी सचदेवा, महानिदेशक शिक्षा कै0 आलोख शेखर तिवारी सहित पशुपालन विभाग, उद्यान विभाग, दुग्ध विभाग, मत्स्य विभाग, सूक्ष्म एवं लघु उद्याग विभाग विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।

About admin